Twitter
Facebook
Vimeo
Pinterest

Fluid Edge Themes

यहां पर घर-घर खोजे जाएंगे कोरोना मरीज, घट सकती है संक्रमितों की संख्या

कोरोना वायरस का कहर लॉकडाउन में छूट के बाद से काफी बढ़ गया है. जिस पर काबू पाने के लिए सरकार हर रोज नए उपाय कर रही है. वही, कोरोना पर काबू पाने के लिए गुवाहाटी में अपनी तरह की पहली डोर-टू-डोर टेस्टिंग प्रोग्राम लॉन्च की गई है. इसका फैसला गुवाहाटी में 15 जून के बाद से एक हजार कोरोना के नए केस मिलने के बाद लिया गया है. 

अपने बयान में असम के स्वास्थ्य मंत्री हिमंता बिस्वा ने कहा कि “असम ने अपनी तरह का पहला मास टेस्टिंग अभियान प्रारंभ किया है. जिस वजह से तय समय में कोरोना के मरीज सरकार की नजर में आ सकते है. कई देशों ने बड़ी संख्या में कोरोना टेस्ट करके वायरस पर काबू पाया है.  स्वास्थ्य विभाग मंगलवार से गुवाहाटी के वार्ड नंबर 2 (पांडू एरिया) में हाउस-टू-हाउस टेस्टिंग शुरू करेगा. दो दिन में वार्ड में 3 हजार टेस्ट करने का लक्ष्य रखा गया है.” यूनिक टेस्टिंग स्ट्रैटजी के लिए ग्रिड टेस्टिंग में स्टैंडर्ड क्यू एंटीजन टेस्ट किट का इस्तेमाल किया जाएगा.

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि पूर्वोत्तर के सबसे बड़े शहर गुवाहाटी में नए कोरोना संक्रमित मिले है. वायरस पर काबू पाने के लिए भारी संख्या में टेस्ट करने की योजना है. जिसके बाद दो लाख रैपिड एंटीजन टेस्ट की​ट खरीदी गई है. कोरोना ट्रांसमिशन चेन को तोड़ने के लिए गुवाहाटी में 12 जुलाई तक पूरी तरह से लॉकडाउन लागू है. राज्य सरकार के अनुसार कम्युनिटी ट्रांसमिशन के प्रमुख केंद्र पांडु क्षेत्र में पायलट प्रोजेक्ट लॉन्च किया जाएगा. इस इलाके के 90 प्रतिशत से अधिक मरीजों की कोई ट्रैवल हिस्ट्री नहीं है.

Sharing is caring!

Post a comment

shares